मोबाइल फ़ोन में फिंगर टच सेंसर कैसे काम करता है? |

The science behind how a touchscreen works - YouTube

फोन में फिंगरप्रिंट सेंसर अब मोबाइल की दुनिया में एक नई तकनीक नहीं रही है ,बल्कि यह बहुत पुरानी हो चुकी हैं। पहले जहां पर हम फोन में सिक्योरिटी के लिए पिन पासवर्ड पैटर्न का इस्तेमाल करते थे, वहां ज्यादातर मोबाइल उपयोगकर्ता लॉक खोलने के लिए फिंगरप्रिंट सेंसर का उपयोग करते हैं।

फिंगरप्रिंट टच सेंसर के कारण फोन का लॉक कुछ ही क्षण में खुल जाता है ।

आपने कभी ना कभी तो सोचा होगा जब हम अपनी उंगली का इस्तेमाल करते हैं तो फोन अनलॉक हो जाता है और जब हम दूसरे की उंगली का इस्तेमाल करते हैं तो फोन अनलॉक नहीं होता।

चलिए जानते हैं कि ऐसा क्यों होता है।

लेकिन इससे पहले यह देखते हैं यह कितने प्रकार का होता है। जिससे कि यह समझने में आसानी होगी कि फिंगरप्रिंट सेंसर कैसे काम करता है।


दोस्तों फिंगरप्रिंट टच सेंसर सामान्यता तीन प्रकार का होता है जो कि निम्न है।

1. Optical Fingerprint Scanner

2. Capacitive Fingerprint Scanner

3. Ultrasonic Fingerprint Scanner

1 . Optical Fingerprint Scanner :

इस तकनीक के द्वारा मशीन में उपस्थित लाइट सोर्स कैमरे द्वारा अपनी अंगुली की फोटो ली जाती है। यह कैमरा अंगुली में उपस्थित अंगुलियों की छाप अर्थात जो लाइने उपस्थित होती हैं(जो कि सभी लोगों की अलग अलग होती है) उन्हें कैप्चर करता है । और पहले से सेव अंगुलियों की छाप से Compare करके फिंगरप्रिंट verify करता है। जिससे कि लॉक अनलॉक हो जाता है।

यदि पहले से सेव फिंगरप्रिंट से कंपेयर करने पर वह सामान नहीं आती तो यह उसे वेरीफाई नहीं करता है।

Optical fingerprint sensor द्वारा Fingerprint verification करने में कुछ सेकेंड का समय लगता है और यह Technology पुरानी Technology है। इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल Mobiles में नहीं किया जाता है।

2. Capacitive Fingerprint Scanner :


इस प्रकार के टच सेंसर का उपयोग आजकल फोनों में किया जाता है।
यह काफी एडवांस Technology है जिसमें इमेज सेंसर की जगह Capacitive प्लेट और कैपेसिटर का उपयोग किया जाता है।

या हम दूसरे शब्दों में कहें तो Fingerprint की लाइन और आपके लाइनों के बीच में जगह को इलेक्ट्रॉनिक चार्ज Capacitor में स्टोर कर लेता है। जैसे ही आप जब भी अपनी फिंगर Capacitive प्लेट पर रखते हैं, तो उस समय Conductor प्लेट आपके फिंगर की लाइन और आपके लाइन के बीच में स्पेस को अलग अलग इलेक्ट्रॉनिक्स चार्ज स्टोर करेगा जिसको जिसको वह बाद में स्टोर चार्ज से वेरीफाई करके आपके फोन को Unlock कर देगा।

इस तरह के फिंगरप्रिंट सेंसर में बेहतर परफॉर्मेंस के लिए काफी सारे capacitor लगे हुए होते हैं। जिससे जिससे कि वह अच्छी परफॉर्मेंस एवं फोन को अनलॉक करने का समय बहुत कम हो जाता है, अर्थात कुछ ही क्षण में फोन अनलॉक हो जाता है । इससे फोन की सिक्योरिटी भी बढ़ जाती है।

3. Ultrasonic Fingerprint Scanner :


जिसका उपयोग Le Max Pro स्मार्टफोन में किया गया है।

यह एक 3D Fingerprint Technology है ।

इस टेक्नोलॉजी को क्वालकॉम स्नैपड्रैगन की कंपनी ने बनाया है।

इस Technology में हार्डवेयर में Ultrasonic ट्रांसमीटर और रिसीवर लगा हुआ होता है। जब आप Scanner पर उंगली रखते हैं तो Ultrasonic ट्रांसमीटर कुछ Signal भेजता है। जो आपके उंगली को Touch करती है, जिसमें से कुछ सिग्नल उंगली पर रह जाते है और बची हुई Signal वापस आ जाती है और यही वापस आने वाले सिग्नल को रिसीवर रिसीव करके उससे 3D इमेज बनाता है। इस तरह से ही आपके मोबाइल में आपका Fingerprint Store और वेरीफाई होता है और उसके बाद आपका फोन अनलॉक हो जाता है।
Constructing Mobile Multi-Sensor Systems | DigiKey
ये फिंगरप्रिंट सेंसर के तीन प्रकार बताए हुए हैं और इन तीन प्रकारों के साथ यह बताया गया है कि है यह कैसे काम करते हैं।

Post a Comment

0 Comments